On-page SEO Kaise Kare in Hindi ( 2021 )

आज में आपको बताऊंगा की on page seo kya hai और on page seo kaise kare in hindi अगर आप seo के बारे में जानते है। तो आपको पता होगा। अगर आपको नहीं पता तो कोई नहीं क्योंकी में आपको आज यही बता ने जा रहा हु।


आपके पास कोई blog है। और चाहते हो की आपका blog post गूगल मैं रैंक हो | ताकि आपको गूगल से organic traffic मिले। तो आपको अपने ब्लॉग में on page seo करने की जरूरत है।

on page SEO में हम सबसे पहले अपने आर्टिकल के लिए keyword research करते है। फिर उन कीवर्ड्स को हम अपने कंटेंट में ऐड करते है। मतलब हमें अपने कंटेंट को उस कवयोर्ड्स से ऑप्टीमज करना होता है। साथ ही साथ हमें बहुत सारी चीजों का ध्यान देना होता है । जो में आपको आगे बताऊंगा।

# On page seo करना क्यों जरूरी है। चलो में आपको बता हूँ।

हर दिन लाखो और क्रोरो blog post गूगल मे पब्लिश किये जाते है। तो ये थोड़ा मुश्किल होगा अपने ब्लॉग पोस्ट को गूगल में रैंक करवाना | अपने ऑनलाइन बिज़नेस को पहचान देना ताकि वो लोगो की नजर मैं आ सके।

अगर आपका एक ऑनलाइन बिज़नेस है। जैसे की आपका एक Blog या एक E commerce store अगर लोग आपके ऑनलाइन बिज़नेस के बारे नहीं जानते तो कोई फायदा नहीं। इसलिए हम अपने ब्लॉग वेस्बिते में seo करते है।

ताकि हमारी वेबसाइट गूगल मैं रैंक हो लोग इसके बारे मैं जाने और आपको फायदा हो जैसे की आपके ब्लॉग मैं ट्रैफिक आ रहा है तो आप या तो google adsense से earning कर सकते हो । और अपने products और services को sell करने earning कर सकते हो।

seo भी हम कई तरह से अपनी वेबसाइट में करते है। On Page seo और off page seo लेकिन आज हम On Page seo के बारे में बात करेंगे और जानेंगे की On Page seo क्या है और कैसे करते है

बहुत सारे लोग अपना ब्लॉग तो start कर देते है लेकिन उनके मन में ये सवाल रहता है की ब्लॉग में ट्रैफिक कैसे लाये। तो मैं आज आपको राज बताने जा रहा हु की अपनी ब्लॉग मैं ट्रैफिक कैसे लिए ” on Page seo ” करके आपने सही सुना आपको On Page seo करना पड़ेगा


on पेज सो में कही चीजे शामिल होती है जैसे की

  • keywords research
  • content optimization with keyword

हम आगे चल के इन सब के बारे में बात करेंगे।

पहले की समय ब्लॉग को रैंक करना बहुत आसान था क्यों की उस समय गूगल इतना स्ट्रिक्ट नहीं था लेकिन अब गूगल बहुत स्ट्रिक्ट हो गया है और अपने अलगोरिथम में changes करता रहता है। क्यों की google अपनी यूजर को सही जानकारी देना चाहता है ताकि यूजर पूरी तरह से संतुस्ट हो सके।

गूगल ने अपने algorithms में बहुत सारे changes लाये। जिसके वजह से हमें गूगल के अल्गोरिथ्म्स का सामना करना पड़ता है जैसे की Panda, Penguin, Hummingbird , Mobile , RankBrain , Medic , Bert, Core Updates , अब gogle पहले की तरह नहीं रहा अब गूगल स्मार्ट बन गया है इसलिए हमे अपनी on page seo की stragies improve करनी पड़ेगी

SEO kya hai ?

इसमें अपने ब्लॉग को इस तरीके से optimize करना होता है ताकि आपको quality और quantity में ट्रैफिक मिल सके search engine से वो भी फ्री में seo कहते है


seo करना बहुत जरूरी है अगर आप seo नहीं करेंगे तो गूगल आपके website को रैंक नहीं करेगा । इस से कोई फरक नहीं पड़ता की आप कितना क्वालिटी कंटेंट पब्लिश करते हो अपने ब्लॉग में

seo type in hindi
on page seo
off apge seo


लेकिन आज में आपको on pageseo के बारे में बताऊंगा चलो जाने on page seo क्या है और कैसे करते है।

on Page seo क्या है ( What is onpage seo in hindi ) ?

on Page seo एक practice है जिसमे हमे अपने वेबसाइट के हर वेब पेजेज को ऑप्टिमाइज़ करना होता है। ताकि वेबपेज search engine मैं रैंक हो। हमे organic ट्रैफिक मेले सर्च इंजन से ।

इसमें हमें अपने webpage के content और HTML source कोड , वेबसाइट स्पीड आदि चीजों ऑप्टिमाइज़ करना होता है।


on page seo का सारा control आपके पास रहता है जैसी की आप कोई कंटेंट लिख रहे है उसमे आपको tittle , discription , tags, content, internal links and URLs को ऑप्टिमाइज़ करना होता है .

जो आप आपके द्वारा ही किया जाता है। जिसे हम को सही तरीके से करना होता है। अगर हम सही तरीके से नहीं करेंगे तो हमारे द्वारा लिखा गया article google में rank nahi होगा।

on page seo करना क्यों जरुरी है ?

हम on page seo अपनी वेबसाइट मैं इसलिए करते है ताकि सर्च इंजन हो पता हो की हमारा ब्लॉग किस बारे बारे है

जब कोई सर्च कोई को सर्च kare तो गूगल आपके वेबसाइट देखए। या जिस टॉपिक के बारे मैं हमने आर्टिकल लिखा है। गूगल को समझ मैं आये की अपने किस टॉपिक के बारे मैं लिखा है।

जैसे की आपने एक ब्लॉग पोस्ट लिखा how to do seo तो आपको इसमें seo तो बताना है साथ मैं आइल रिलेटेड कीवर्ड भी add करने है।


on page seo एक seo का एक पार्ट जहा पर आप अपने blog post को इस तरीके से ऑप्टिमाइज़ करते है ताकि ब्लॉग पोस्ट गूगल में हमारे द्वारा टारगेट किये गए keywords में rank हो।

और हमे अपने blog मैं orgainc traffic मिले। इसलिए हमे on page सही तरीके से करना होता है वरना आपके ब्लॉग सर्च इंजन मैं रैंक नहीं होगा।

On-page SEO Kaise Kare

इसे एक example के साथ समझते है।

मान लो आपने एक नया blog बनाया है और आपने उसमे बहुत सारे ब्लॉग पोस्ट लिखे और पब्लिश कर दिए है। आपके blog मैं बिलकुल भी traffic नहीं आ रहा है। सोचो आपके ब्लॉग मैं ट्रैफिक क्यों नहीं आ रहा है।

मैं बताता हु क्यों की आपने अपने पोस्ट मैं on page seo नहीं किया अब आप समज गए होंगे की on page seo करना क्यों जरुरी है।


लेकिन कभी कभी अपने on page seo भी अपनी वेबसाइट मैं किया लिकेन फिर भी आपके पोस्ट गूगल मैं रैंक नहीं हो रही है।

जो लोग ब्लॉग्गिंग मैं नए होते है वो अक्सर ये गलती करते है वो on page seo तो करते है लेकिन वो सही तरके से on page seo को ऑप्टिमाइज़ नहीं करते।

आज मैं आपको यही बताऊंगा की on page seo कैसे करे अपने वेबसाइट में। ताकि आपके वेबसाइट गूगल मैं रैंक हो।

On Page SEO kaise kare ( how to do onpage seo in hindi ) ?

आपने ये तो पढ़ लिया की On Page SEO में हम अपनी वेबसाइट के वेब पेजेज को ऑप्टिमाइज़ करते है। ताकि आपके ब्लॉग में ट्रैफिक आये। आप जितनी अच्छे से On Page SEO करेंगे उतने ही आपके पेज की ऑटोरिटी increase होगी गूगल के नजर में और आपके वेबसाइट रैंक होंगे और आपको आर्गेनिक ट्रैफिक मिलेगा सर्च इंजन से ?

लेकिन सवाल ये है की On Page SEO Kaise Kare in हिंदी।

on page seo kaise kare in hindi , on page seo techniques in hindi

ये video Techno Vedant youtube channel से लिया गया है। आप इस channel को visit कर सकते हो

On page seo बहुत सारे factors में depend करता है। है। जिसे आपको करना होता है। जब आप अपनी ब्लॉग के लिए आर्टिकल लिख रहे है। On page seo factors क्या है |

on page seo factors in hindi

  • URL
  • Title tag
  • Meta description
  • Heading tags
  • Alt tags
  • Keywords
  • Content
  • speed optimization
  • Internal linking
  • Images
  • Mobile-friendliness

On-page SEO Kaise Kare in hindi

On Page SEO में हम अपने कंटेंट को ऑप्टिमाइज़ करते है जिसमे title, permalink, meta description, image alt tag आदि शामिल है। ताके वेबसाइट SERPs में rank हो

बिना डेरी किये जाने on page seo कैसे करे।

1. Title

tiitle on page seo का एक important पार्ट है। जिसमे हम अपने वेब पेज को नाम देते है। जिस बारे मैं हमने लिखा है।

जैसे की मेरा article SEO के बारे मैं है। तो मेरा Tittle होगा ” What is on seo in hindi ” जब आप कोई ब्लॉग पोस्ट पब्लिश करते है तो गूगल के क्रॉल ये भी देखे है की उसमे title है या नहीं।

tiitle टैग वेबसाइट मैं ट्राफिक लाने मैं बहुत मदत करता है।

इसलिए आपका title इतना attractive होना चाहिए की user आपके ही title में click करे बाकी top 10 pages में से जिससे website का CTR ( click through rate ) increase होगा और आपको ज्यादा से ज्यादा ट्रैफिक मिलेगा।

आपके title मैं आपका main keywords भी होना चाहिए ताकि यूजर को पता चले की आपने किस टॉपिक के बारे मैं लिखा है।

NOTE – आपका title 60 character से ज्यादा नहीं होना चाहिए क्योंकी गूगल 60 charactor की बाद word show नहीं करता है। और आपका tiitle unique होना चाहिए।

2. Heading tags

Heading Tags वो टैग्स होते है जो आप अपने कंटेंट को ऑप्टिमाइज़ करने के लिए बिच बिच मैं देते है जैसे की H1 H2 H3 H4 ये बहुत जरुरी होते है।

ताकि user को आपका आर्टिकल को समझने में आसानी हो।

ये टैग्स सर्च इंजन को बताता है। की आप कौन से कीवर्ड्स को टारगेट कर रहे हो। जैसे की मान लो मेरा focus keyword है what is seo तो heading टैग्स हो सकता है ।

  • what is on-page SEO
  • what is off-page SEO
  • why SEO is important
  • SEO benefits

जब अपने कंटेंट में Heading Tags का इस्तेमाल करोगे तो आपका कंटेंट readable बनता है। यूजर को आसानी से आपका कंटेंट समाज में आजाएगा।


अगर आपके कंटेंट की lenght 2000 से 3000 वर्ड का हो तो आप बीच बीच मैं Heading Tags का इस्तेमाल करे ताकि read करने में आसानी हो।

आप अपने कंटेंट से रिलेटेड हैडिंग टैग का इस्तेमाल करे। मलतब जो आपका फोकस कीवर्ड्स है । उसी कीवर्ड्स से रिलेटेड हैडिंग टैग्स होने चाहिए।

NOTE – Headig tags को इस्तेमाल करते वक्त इस चीज का भी ध्यान दे की H1 tags में आपका focus keywords होना चाहिए। और H2 , H3, H4 में आपके focus keywords से related keywords होना चाहिए।

3. Meta Descriptions को Optimize करें

आपके website का meta discription 160 charactor से ज्यादा नहीं हिना चाहिए

on page seo के लिए Meta Descriptions को Optimize करना बहुत जरूरी है जो आपके wesbite का CTR को increase करने मैं हेल्प करता है।

और आपके meta tags में आपका फोकस कीवर्ड्स भी होना चाहिए

जो सर्च इंजन को आपके पेजेज को समज ने में हेल्प करता है। आप meta dicription attractive होना चाहिए ताकि यूजर आपके लिंक को क्लिक करे

NOTE – CTR ranking का factor नहीं है। लेकिन वेबसाइट में ज्यादा ट्राफिक लाने में हेल्प करता है।

4. Improve Content Quality

आपने ये तो जरूर सुना होगा की Content is king है। लेकिन में आपको एक बात बता दू की content अब king नहीं है। बल्कि content अब kingdom बन चूका है इसलिए आपको अपने content में सबसे ज्यादा फोकस करना है।

आपका content unique है या नहीं ये check करने के लिए आप plagirisom cheker tools का इस्तेमाल कर सकते हो। और content को लिखते बक्त आप grammerly chrome extension का इस्तेमाल कर सकते हो

5. Content length

आपको पता है की small कंटेंट की तुलना में long Content सर्च इंजन मैं जल्दी रैंक होते है। वैसे तो कहा जाता है आपका कंटेंट 300 वर्ड से ज्यादा होना चाहिए।

लिकेन अगर आप मेरी माने तो आपका कंटेंट मिनिमम 1500 वर्ड से ज्यादा होना चाहिए।

जब भी आप किसी टॉपिक के बारे मैं कंटेंट लिख रहे है। तो try करे की आपका कंटेंट long हो लिकेन कंटेंट की quality मत भूल जाना।

ये नहीं की long कंटेंट लिखने के चकर में आप बकवास लिख रहे हो ।

जितना long आपका कंटेंट होगा उतने ही टॉपिक आप कवर कर पाएंगे।

6. SEO Friendly URLs

ये जरूर ध्यान दे की आपके ब्लॉग का url seo फ्रेंडली हो।

यूआरएल seo फ़्रेंडी बनाने के लिए उसमे अपने focus keyword का इस्तेमाल करे और ये भी ध्यान रखे की यूआरएल small होना चाहिए।

long यूआरएल नहीं होना चाहिए। अपने यूआरएल मैं नंबर का इस्तेमाल न करे। आपका यूआरएल 4 वर्ड से से छोटा और 8 वर्ड से ज्यादा न हो।

what is on page seo – CORRECT
what is on page seo and how to do on page seo in hindiINCORRECT

आपके यूआरएल मैं आप dash ( – ) का भी इस्तेमाल कर सकते है। लेकिन ध्यान दे की आप अपने ब्लॉग के URL में Special characters, symbols, brackets, कमस , date का उपयोग न करें।

अगर आप वर्डप्रेस का इस्तेमाल करते हो तो आप अपने permalink को change करके यूआरएल को seo फ्रेंडली बना सकते हो।

अगर आप ब्लॉगर का इस्तेमाल करते हो तो आप coustom url में जाकर अपना यूआरएल को change कर सकते हो ।

7. Keyword Research करें

अगर आप किसी टॉपिक में आर्टिकल लिखना चाहते है। तो आप आर्टिकल लिखने से पहले Keyword Research जरूर करे। ताकि आपका कंटेंट SERPs मैं जल्दी रैंक हो

आप Keyword Research करने के लिए Keyword Research tools का इस्तेमाल कर सकते है उनमें से कुछ फ्री है kuch paid है। जसी की google keyword planner , ubbersuggest , google suggestion , ahrief , semrush

Keywords research Kaise Kare in हिंदी

आपको पता है की on page seo में हमें अपने आर्टिकल को seo फ्रेंडली बनाना होता है। जिसे के लिए हम अपने आर्टिकल में कीवर्ड्स का इस्तेमाल करते है। कीवर्ड्स का इस्तेमाल करने के लिए हमें कीवर्ड्स को रिसर्च करना होगा।

इस बात का ध्यान रखे की जिस कीवर्ड में आप content लिख रहे है उस keyword का serach वॉल्यूम ज्यादा होना चाहिए और कॉम्पिटिशन low होना चाहिए।

keywordds आपका लॉन्ग टेल होना चाहिए। अगर आप कीवर्ड्स रिसर्च करते वक्त इन सब का ध्यान रखेंगे तो गूगल में रैंक होने में आसानी होगी।

8. Long Tail Keywords का उपयोग करें

अगर आप एक new blogger हो तो आप हमेसा Long Tail Keywords का उपयोग करें।

क्योंकी ये आसानी से रैंक हो जाते है इनका सर्च वॉल्यूम भी अच्छा होता है। और इन keyword का compition low होता है।

9. Images SEO

अगर आप ब्लॉग पोस्ट लिख रहे है । तो आप इमेज का use तो जरूर करेंगे। जब हम इमेजेज का use कर रहे है। तो हमें इमेज का SEO भी करना होगा। आपके मन में सवाल होगा की images सो kyu कैरे ?

जब आप कोई कीवर्ड गूगल मैं सर्च करते है तो आपने नोटिस किया होगा की वहा पर एक इमेज का ऑप्शन भी होता है। जहा पर इमेजेज रैंक होती है। इमेजेज को रैंक करके आप बहुत सारा ट्रैफिक ले सकते हो गूगल से।

images का seo करने के लिए हम इमेजेज alt टैग का उसे करते है जिसमे हमें अपने फोकस कीवर्ड्स को ऐड करना होता है। साथ ही साथ caption, और description भी दे सकते हो

हमें इमेज का फाइल नाम भी एडिट करके कीवर्ड्स को ऐड करना होता है।

अगर आप अपने ब्लॉग पोस्ट मैं बहुत सारे इमेज का इस्तेमाल कर रहे है। तो आपके लोडिंग स्पीड भी बाद सकते है । इसलिए आप
इमेजेज को comprases करे। ब्लॉग पोस्ट में ऐड करने से पहले।

आप इमेज कम्प्रसेस कैसे करे

आप गूगल me सर्च करो imagescompresser जा पर बहुत सारी वेबसाइट mil jaege आप किसी का भी इस्तेमाल कर सकते हो इमेज को कंप्रेस करने के लिए।

आप अगर wordpress का इस्तेमाल करते हो तो आप साथ ही साथ smush plugin का भी use कर सकते है

10. Keyword Stuffing न करे

जब आप आर्टिकल में कीवर्ड्स को जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करते है उसे कीवर्ड स्तुफ्फिंग कहते है। कीवर्ड्स स्तुफ्फिंग ब्लैक हैट सो में आते है जिससे आपके वेबसाइट रैंकिंग को डाउन कर सकते है या आपकी वेबसाइट पेनलीजे हो सकते है गूगल से।

कीवर्ड्स स्तुफ्फिंग user experience की बजाये सर्च इंजन में ज्यादा फोकस करते है जो आपके वेसबसीते का यूजर एक्सपीरियंस को खराब कर सकता है।

कई सालो पहले जब गूगल नया था। तब Keyword stuffing बहुत पॉपुलर हुआ करता था। लोग अपने कंटेंट मैं ज्यादा से ज्यादा कीवर्ड्स का इस्तेमाल करते थे।


100 – 200 तक जो गूगल को जबरदस्ती वेबसाइट को रैंक करने के लिए फाॅर्स करता था। लेकिन जब गूगल ने अपना Hummingbird अल्गोरिथम निकला जो उन वेबसाइट की रैंकिंग को डाउन कर देते थी।

जो ज्यादा Keyword स्तुफ्फिंग use करते थे। जिसकी वजह से गूगल ने मिलियन वेबसाइट को पपपप कर दिया जिसके बजह से गूगल सर्च से भार हो गए।


इसलिए अपने वेबसाइट मैं उतना ही कीवर्ड का उसे करे जितनी जरूरत है। जब आप ब्लॉग पोस्ट लिख रहे है उसमे keyword density 1% -2% तक होनी चाहिए।

11. Wesbite को Mobile Friendly बनाएं

गूगल में 60% से 70% Serches मोबाइल devices द्वारा किया जाता है। इसलिए आपकी वेबसाइट Mobile फ्रेंडली होनी चाहिए। अगर आपकी वेबसाइट Mobile फ्रेंडली नहीं है। तो गूगल आपकी वेबसाइट को रैंक नहीं करेगा। क्यों की गूगल मोबाइल फ्रैंडली वेबसाइट को ज्यादा periority देता है।

बहुत सारे ऐसे tools है। जो आपको बता देंगे की आपकी वेबसाइट Mobile फ्रेंडली है या नहीं जैसे की आप Google के Mobile Testing Tool का इतेमाल भी कर सकते है। अगर आपके वेबसाइट मोबाइल responsive नहीं है । तो आप ऐसी theme का use करे जो मोबाइल responsive हो। अगर आप वर्डप्रेस का इस्तेमाल कर रहे है। तो आप generate press थीम का इस्तेमाल कर सकते है।

12. पहले 100 शब्दों में अपना फोकस कीवर्ड Add करें

जब आप आर्टिकल लिख रहे है तो पहले 100 शब्दों में अपना फोकस कीवर्ड Add करें ताकि सर्च इंजन को समज आये की आपका कंटेंट किस बारे मैं है । और साथ ही साथ आप एक लिंक का भी उसे करे। जो आपके कंटेंट को seo friendly बनाये गई और आपकी वेबसाइट सर्पस मैं रैंक होंगे

13. अपनी website की Loading Speed को Improve करें

अगर आपकी वेबसाइट की लोडिंग स्पीड फ़ास्ट नहीं है तो सर्च इंजन आपकी website को रैंक नहीं करेगा। फ़ास्ट लॉडिंग स्पीड वेबसाइट के लिए बहुत जरूरी है। साथ साथ यूजर की लिए भी जो आपके website में आता है।

मान लो जब कोई vsiitors SERPS से आपकी wesbite के लिंक को click करके आपके wesbite में आता है। अगर आपकी website load होने में समय लग रहा है। यूजर आपके website को leave करके किसी और website में चला जाएगा।

जिससे आपकी वेबसाइट का Bounce rate increase होगा और गूगल को negative singnal जाएगा जिससे आपकी वेबसाइट की रैंकिंग डाउन हो जाएगी।

आप अपने wesbsite के बहुत सारे visitors को खो देंगे।

आप अपनी website की लोडिंग स्पीड को चेक कर सकते है। वैसे तो बहुत सारे टूल्स है जो आपके वेबसाइट की loading speed बता देंगे जैसे की


Gt metrix , Pingdom आदि


ये आपकी होस्टिंग में भी देपेंद करता है।
अगर आप wordpress का इस्तेमाल करते हो तो कुछ ऐसे plugin है। जो आपके website की लोडिंग स्पीड फ़ास्ट करने में हेल्प कर सकते है। जैसे की wp chache , wp rocket आदि
अगर आप ब्लॉगर का use करते है तो आप अपने वेबसाइट की इमेजेज को कंप्रेस करे।

14. Broken Links को Fix करें

Broken Links वो link होते जो काम नहीं करते जब हम इन लिंक्स मैं क्लिक करते है तो हमें 404 error show होता है।

  • Broken लिंक्स के कई कारण हो सकते है जैसे की –
  • website अब गूगल मैं exiits नहीं करती
  • आपके website का domin expire हो जाना।
  • website का URL structure changed हो जाना।

अगर आपकी wesbite मैं बहुत सारे Broken लिंक्स है। जो आपके रैंकिंग को डाउन कर सकते है साथ ही साथ यूजर एक्सप्रिएंस भी खराब कर सकते है।
इसलिए आप अपनी वेबसाइट से Broken लिंक्स को फिक्स करे।

बहुत सारे ऐसे टूल्स है जो आपके वेबसाइट के broken link को चेक करने में हेल्प करते है।

आप Broken Links checker plugin का use भी कर सकते है। ब्रोकन link को फिक्स करने के लिए। riderction का भी use कर सकते है।

15. Internal linking

Internal लिंक्स वो लिंक होते है जिस में हम अपने एक आर्टिकल को दूसरे आर्टिकल में लिंक देते है जिसे हम Internal Links कहते है।
ये वो hyperlinks text होते है जो आपके दूसरे पेज मैं जाते है आपके वेबसाइट से।

मान लो आपने एक कंटेंट लिखा ” how to do seo ” उस कंटेंट में आप बात करते हो की ” what is seo ” और आपने पहले से ” what is seo ” मैं कंटेंट लिख रखा है तो आप एक hyperlinks टेक्स्ट बनाओगे जब यूजर आपकी वेबसाइट मैं कंटेंट को read कर रहा होगा और आपके लिंक मैं क्लिक करते है तो यूजर आपके उस पोस्ट मैं redirect हो जाये जहा पर आपने पहले से ही बता रखा है की ” what is seo “

interlinking के बहुत सारे फयदे होते है जैसी की।

bounce रेट को काम करता है
organic ट्रैफिक को increase करने मैं मदत करता है और click-through rate को बहतर करता है
आपकी wesbite की indexing को भी improve करता है
improve onpage seo

16. Outbound Links का उपयोग करें

Outbound Links वो लिंक्स होते है। जो आपकी wesbite के एक वेबपेज से दूसरे wesbite के webpage में link होते है । Outbound Links कहते है।


आसान भाषा मैं बताऊ आप अपने content में किसी दूसरे की wesbite और content को लिंक करते है ताकि जब कोई यूजर उस लिंक में क्लिक करे तो उसकी वेबसाइट me redirct हो जाये।

ये गूगल को postitive singnal देता है और साथ ही साथ आपकी visitors अधिक informative देता है और आपकी रैंकिंग गूगल मैं इनक्रीस करता है।

आप इस बात का ध्यान जरूर दे की आप जिस वेबसाइट का Outbound Links बना रहे वो आपके कंटेंट से रिलेटेड होना चाहिए। साथ साथ आप वेबसाइट का spam score , DA और PA भी चेक कर ले।

17. LSI Keywords का उपयोग करें

जब आप blog post लिख रहे हो तो अपने कंटेंट में LSI keywords का भी इस्तेमाल करे। मतलब foucus keywords से related कीवर्ड्स को अपने कंटेंट में ऐड करना।

आप LSI keywordको find करने के लिए आप कुछ टूल्स का इस्तेमाल कर सकते है जैसी की।

  • Google suggestion
  • LSI graph
  • youtube suggestion


ये बात का ध्यान रखे की कंटेंट मैं फोकस कीवर्ड्स से Related Keywords का इस्तेमाल होना चाहिए । ये नहीं की आपका कंटेंट best shoes के बारे में है। और आप रिलेटेड कीवर्ड्स मैं best t shirt के बारे मैं बता रहे है। इससे गूगल को समझने मैं मुश्किल होगा की आपका कंटेंट किस बारे मैं है और आपकी वेबसाइट को रैंक नहीं करेंगे

18. use social sahre buttons

आप अपने कंटेंट में सोशल शेयर बटन जरूर लगाए ताकि लोग आपका ब्लॉग पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा share कर सके | जैसी की मान लो जो कोई यूजर आपके ब्लॉग में आता है। और आपका ब्लॉग पोस्ट को रीड कर रहा है। और यूजर ने आपका ब्लॉग पोस्ट बहुत पसंद आ गया है। और यूजर आपके ब्लॉग पोस्ट को शेयर करना चाहता है। लेकिन आपने अपने ब्लॉग पोस्ट में सोशल शेयर बटन नहीं लगाया है तो यूजर आपका ब्लॉग पोस्ट को share नहीं कर पाएंगे।

वेबसाइट में सोशल share बटन कैसे लगाए।

अगर आपका वेबसाइट वर्डप्रेस में है तो आप socail share plugin ko इनस्टॉल कर सकते haa।

19. Table Of Content

अपने कंटेंट में आप टेबल ऑफ़ कंटेंट का इस्तेमाल करे। क्यों की ये आपके ब्लॉग को समजने में हेल्प करता है। आपकी वेस्बिते में जितने भी हैडिंग है उन सब को मिला से टेबल ऑफ़ कंटेंट बन जाता है। जससे यूजर किसी भी हैडिंग को क्लिक केर सकता है। जो भी उन्हें [अदना है।

ON page SEO vs off-page SEO

ON page और off-page दोनों ही seo की टेक्निक है। दोनों एक दूसरे से बहुत अलग है।

  • ON page SEO में हमें अपने कंटेंट को ऑप्टिमाइज़ करना होता है। जिसमे हम meta dicription , Title tag , Heading tags , Alt tags , Keywords आदि चीजों को करते है।
  • off-page seo में हम अपने wesbite को permote करते है। किसी दूसरे wesbite में। जिसमे हम backlink , social bookmarking , guest post , pofile creation आदि चीजों को करते है।

ON page SEO और off-page seo दोनों ही एक वेबसाइट को रैंक करने में हेल्प करते है।अगर में आपको आसान language


में समजाओ तो on page गूगल में किसी keywords को रैंक करने में हेल्प करता है। off page आपके रैंकिंग को गूगल में mantain रखती है।

अंतिम वर्ड्स

आज हमने जाना की on page seo kya hai और on page seo kaise kare अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया तो आप हमारे आर्टिकल को शेयर कर सकते हो।

1 thought on “On-page SEO Kaise Kare in Hindi ( 2021 )”

Leave a Comment